मुहावरे – लोकोक्तियां – कहावतें : घ

घंटा दिखाना अर्थ: आवेदक या याचक को कोई वस्तु न देना। मांगने वाले को निराश करना।

घट-घट में बसना अर्थ: हर मनुष्य के हृदय में रहना।

घड़ियाँ गिनना अर्थ: बहुत उत्कंठा से प्रतीक्षा करना, मरणासन्न होना। बेचैनी से इंतज़ार करना।

घड़ी भर की बेशरमी, दिन भर का आराम अर्थ: संकोच की अपेक्षा साफ कहना बेहतर होता है।

घड़ी भर में घर जले, अढ़ाई घड़ी भद्रा अर्थ: समय पहचान कर ही कार्य करना चाहिए।

घड़ी मेँ तोला, घड़ी मेँ माशा अर्थ: अस्थिर चित्त वाला व्यक्ति। चंचल विचारों वाला। ऐसा अस्थिर चित्त व्यक्ति जो जरा-सी बात पर खुश और जरा-सी बात पर नाराज हो जाए।

घड़ों पानी पड़ा जाना अर्थ: बहुत लज्जित होना। अत्यधिक शर्मिंदा होना।

घपले में पड़ना अर्थ: किसी काम का खटाई में पड़ना।

घमंड में चूर होना अर्थ: अत्यधिक अभिमान होना।

घर आई लक्ष्मी को लात नहीं मारते अर्थ: मिलते धन या वृत्ति को छोड़ना नहीं चाहिए।

घर आए कुत्ते को भी नहीं निकालते अर्थ: घर आने पर बुरे आदमी को भी नहीं दुत्कारा जाता। घर आने वाले को सम्मान देना चाहिए।

घर आए नाग न पूजिए, बामी पूजन जाए अर्थ: निकटस्थ तपस्वी-संत की पूजा न कर, किसी साधारण साधु का आदर-सत्कार करना। पड़ोसी की मदद न कर बाहरी की सहायता करना।

घर उजाड़ना अर्थ: घर बर्बाद करना। किसी को पूरी तरह तबाह करना।

घर कर सत्तर बला सिर कर अर्थ: ब्याह करने और घर बनाने में बहुत झंझटों का सामना करना पड़ता है।

घर करना अर्थ: पूरी तरह से रच बस जाना। बसना। रहना। निवास करना। जमना। बैठना।

घर का आदमी अर्थ: घनिष्ठ, आत्मीय, बहुत करीबी रिश्तेदार

घर का उजाला अर्थ: इकलौता बेटा, सुपुत्र

घर का चिराग गुल होना अर्थ: पुत्र की मृत्यु होना

घर का चिराग बुझना अर्थ: पुत्र की मृत्य हो जाना

घर का जोगी जोगड़ा, आन गाँव का सिद्ध अर्थ: अपने ही घर में अपनी कीमत नहीं होती।

घर का नाम डुबोना अर्थ: परिवार या कुल को कलंकित करना, प्रतिष्ठा भंग करना

घर का बोझ उठाना अर्थ: घर का खर्च चलाना या देखभाल करना

घर का भेदी लंका ढाए अर्थ: आपसी फूट का परिणाम बुरा होता है। आपसी फूट सबसे बड़ी कमजोरी है। आपसी फूट से भेद खुलना। आपसी झगड़े में सर्वनाश।

घर का मर्द अर्थ: बाहर कायरता दिखाने वाला।

घर का, न घाट का अर्थ: एकदम बेकार, अनुपयोगी, कहीं का न रहना, बेकाम, निकम्मा।

घर काट खाने दौड़ना अर्थ: सुनसान घर। सूना घर।

घर काटने को दौड़ना अर्थ: मन न लगना, सूनापन।

घर की मुर्गी दाल बराबर अर्थ: अपनी चीज़ या आदमी की कदर नहीं। सहज प्राप्त वस्तु को आदर नहीं मिलता।

घर खीर तो बाहर खीर अर्थ: अमीर कोसब बाहर भी सम्मान देते हैं। समृद्धि सदा सम्मान प्रदान करती है।

घर घर मटियारे चूल्हे अर्थ: सब लोगों में कुछ न कुछ बुराइयाँ होती हैं। सबको कुछ न कुछ कष्ट होता है।

घर जलाना अर्थ: स्वयं को बलिदान करना

घर फूँककर तमाशा देखना अर्थ: अपनी हानि करके मौज उड़ाना। अपना ही नुकसान करके खुश होना। घर की दौलत उड़ाकर मौज करना।

घर बसाना अर्थ: विवाह करना। शादी करना।

घर मेँ गंगा बहाना अर्थ: बिना कठिनाई के कोई अच्छी वस्तु पास मेँ ही मिल जाना।

घर में आग लगाना अर्थ: आपस में झगड़ा कराना

घर में गंगा बहना अर्थ: घर में सुविधा होना।

घर में दीया जला कर मस्जिद में जलाया जाता है अर्थ: दूसरों को सुधारने से पहले स्वयं को सुधारना होता है। किसी और को दान देने के पहले घर की हालत देखना चाहिए। किसी और को भलमनसाहत की शिक्षा देने के पहले खुद को देख लो।

घर में नहीं दाने, अम्मा चली भुनाने अर्थ: कुछ न होने पर भी होने का दिखावा करना।

घर में नहीं दाने, बुढ़िया चली भुनाने अर्थ: झूठा दिखावा।

घर में भुनी भाँग नहीं, नगर निमंत्रण अर्थ: मूर्खतापूर्ण दुस्साहस।

घर में भूंजी भांग न होना अर्थ: अत्यंत गरीब होना। घर में कुछ धन-दौलत न होना, अकिंचन होना, अत्यंत निर्धन होना।

घर सिर पर उठाना अर्थ: बहुत शोर मचाना। कलह मचा देना।

घाट घाट का पानी पीना अर्थ: हर तरह का अनुभव हासिल करना। बहुत अनुभवी होना।

घात में रहना अर्थ: किसी को हानि पहुँचाने के लिए अनुकूल अवसर ढूँढते फिरना। मौका ताकना।

घात लगाना अर्थ: वक्त का इंतजार करना

घायल की गति घायल जाने अर्थ: कष्ट भोगने वाला ही वही दूसरों के कष्ट को समझ सकता है। दुखी व्यक्ति की हालत दुखी ही जानता है।

घाव पर नमक छिड़कना अर्थ: दुःख में दुःख देना दुःखी को ज्यादा दुःखी करना। काम खराब होने पर हंसी उड़ाना।

घाव पर मरहम रखना अर्थ: सांत्वना देना, तसल्ली बंधाना।

घाव हरा करना अर्थ: भूला दुःख याद करना

घाव हरा होना अर्थ: कष्ट याद आना। भूला दुःख फिर याद आना।

घास काटना अर्थ: तुच्छ काम करना

घास खोदना अर्थ: बेकार समय गँवाना।

घास छिलना अर्थ: समय बेकार खर्च करना।टाइम पास करना

घास न डालना अर्थ: प्रोत्साहन न देना, सहायता न करना। बात तक न करना। मतलब न रखना,   ढंग से बात न सुनना,  मुंह फेर कर निकल जाना।

घिग्घी बँध जाना अर्थ: भय, क्षोभ या किसी संवेग में मुंह से बोली न निकलना। गले से आवाज न निकलना।

घी का चिराग जलाना अर्थ: कार्य सिद्ध होने पर आनंद मनाना, प्रसन्न होना।

घी का लड्डू टेढ़ा भी भला अर्थ: गुणवान की शक्ल नहीं देखी जाती

घी के दिए जलाना अर्थ: बहुत खुशियाँ मनाना। अत्यंत प्रसन्न होना। अप्रत्याशित लाभ पर प्रसन्नता। दूसरे के नुकसान पर खुश होना।

घी के दीप जलाना अर्थ: लाभ पर प्रशंसा व्यक्त करना

घी खाया बाप ने, सूंघो मेरा हाथ अर्थ: दूसरों की कीर्ति पर डींग मारने वालां।

घी खिचड़ी में ही गिरे अर्थ: अपनी चीज अपने काम आई।

घी खिचड़ी होना अर्थ: खूब मिल-जुल जाना।

घी गिरा खिचड़ी में अर्थ: लापरवाही के बावजूद वस्तु का सदुपयोग होना।

घी दूध की नदियां बहाना अर्थ: अत्यंत समृद्ध होना।

घी सँवारे काम, बड़ी बहू का नाम अर्थ: साधन पर्याप्त हों तो काम करने वाले को यश मिलता है। काम कोई और करे, यश किसी और को मिले।

घुट-घुट कर मरना अर्थ: पानी या हवा न मिलने से कष्ट भोगते मरना। किसी कष्ट के कारण मन ही मन में

घुटना टेक देना अर्थ: हार मानना। पराजय स्वीकार करना।

घुटा हुआ अर्थ: बहुत चालाक। धूर्त। छंटा हुआ बदमाश।

घुन लगना अर्थ: शरीर का अंदर-अंदर क्षीण होना, चिंता होना।

घुन सवार होना अर्थ: किसी काम को करने के पीछे पड़ जाना

घुल-मिल जाना अर्थ: एक हो जाना।

घुला-घुला कर मरना अर्थ: सता कर मारना। परेशान करके मारना।

घूंघट का पट खोलना अर्थ: अज्ञान का परदा दूर करना।

घोड़ा घास से दोस्ती करेगा तो खाएगा क्या अर्थ: कारोबार में रियायत नहीं की जाती। मेहनताना या सामान का दाम मांगने में संकोच नहीं करना चाहिए।

घोड़ा बेचकर सोना अर्थ: निश्चित होकर सोना

घोड़े की दुम बढ़ेगी तो अपने ही मक्खियाँ उड़ाएगा अर्थ: उन्नति करके आदमी अपना ही भला करता है।

घोड़े को लात, आदमी को बात अर्थ: सामने वाले का स्वभाव पहचान कर उचित व्यहार करना।

घोड़े पर सवार रहना अर्थ: हर काम में जल्दी करना।

घोड़े पर सवार होना अर्थ: लौटने की जल्दी मचाना

घोड़े बेचकर सोना अर्थ: निश्चिंत होना। बिलकुल बेफिक्र होना।

घोल कर पिलाना अर्थ: अच्छी तरह याद कराना।

घोल कर पी जाना अर्थ: अच्छे से रट लेना।

घोल कर पीना अर्थ: किसी चीज का अस्तित्व न रहने देना।

प्रिय पाठकों, हमारे देश में खूब लोकोक्तियां, मुहावरे, कहावतें इस्तेमाल होते हैं। वे आज भी किताबों तक नहीं पहुंचे हैं। हम कोशिश कर रहे हैं कि यह भंडार आप तक पहुंचाएं। आपको कोई लोकोक्ति, मुहावरा, कहावत याद आए, जो हम यहां न दे सके, तो आप कमेंट बॉक्स में लिख दें। हम उसे अकारादी क्रम में संग्रहित करते जाएंगे। हिंदी भाषा की जानकारी देते रहें, समृद्ध बनाते रहें।  – संपादक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *